The Bilasa Times

छत्तीसगढ़ की तमाम खबरें

Breaking

Tuesday, June 9, 2020

खनिज प्रभावित क्षेत्रों के विकास के लिये 44.56 करोड़ के 976 कार्यों की स्वीकृति


प्रभारी मंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से जिला खनिज न्यास संस्थान की शासी परिषद् की बैठक ली.
जनसंपर्क
बिलासपुर जिला खनिज न्यास संस्थान (डीएमएफटी) की शासी परिषद् की बैठक में बिलासपुर जिले के प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष खनन प्रभावित गांवों में 44 करोड़ 56 लाख रुपये के 976 कार्यों की स्वीकृति दी गई। बैठक की अध्यक्षता प्रभारी मंत्री एवं गृह जेल, लोक निर्माण विभाग के मंत्री ताम्रध्वज साहू ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से की।
बैठक में प्रभारी मंत्री ने कहा कि जिले के खनन प्रभावित गांवों में जन प्रतिनिधि एवं अधिकारी तालमेल से क्षेत्र के विकास के लिए कार्य करें और 15 दिन के भीतर प्रत्यक्ष प्रभावित गांवों में अधिक से अधिक कार्यों के लिए प्रस्ताव दें।


कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने बैठक में जानकारी दी कि डीएमएफ की गाइडलाइन के अनुसार उच्च प्राथमिकता वाले कार्य में 60 प्रतिशत एवं अन्य प्राथमिकता वाले कार्य में 40 प्रतिशत राशि खर्च की जाती है। बैठक में प्रभारी मंत्री द्वारा निर्देशित प्राथमिकता के क्षेत्र पेयजल, शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, महिला एवं बाल विकास एवं अन्य सम्बद्ध गतिविधियों के प्रस्ताव स्वीकृत किये गये। पेयजल आपूर्ति के 135 कार्यों के लिये 705.44 लाख, स्वास्थ्य देखभाल के चार कार्यों के लिए 832.55 लाख, शिक्षा हेतु 1745.72 लाख रुपये के 690 कार्य, कृषि एवं सम्बन्धित गतिविधियों के 139 कार्यों के लिये 833.91 लाख रुपये, महिला एवं बाल कल्याण के लिये 139 लाख रुपये के दो कार्य प्रस्तावित किये गये। अन्य प्राथमिकता के क्षेत्र में भौतिक अधोसंरचना निर्माण के 6 कार्यों के लिए 200 लाख रुपये का प्रस्ताव रखा गया। जिले में वर्तमान में 87 गांव प्रत्यक्ष खनन प्रभावित क्षेत्र में शामिल हैं तथा 52 और गांवों को इसमें शामिल करने का प्रस्ताव शासी समिति के समक्ष रखा गया।बैठक में उपस्थित सदस्यों ने अपने क्षेत्र से सम्बन्धित कई अन्य कार्यों की ओर ध्यान आकृष्ट कराया। प्रभारी मंत्री साहु ने एक सप्ताह के भीतर इन कार्यों का प्रस्ताव तैयार करने का निर्देश दिया।
                              बैठक में उपस्थित नेता प्रतिपक्ष एवं बिल्हा के विधायक धरम लाल कौशिक ने सुझाव दिया कि प्रत्यक्ष रूप से खनन प्रभावित गांवों में विकास कार्य प्राथमिकता से करें। खनन से जो गांव ज्यादा प्रभावित हैं वहां अधिक कार्य करायें। शासी समिति के सदस्य बिलासपुर विधायक शैलेष पांडेय, तखतपुर विधायक श्रीमती रश्मि सिंह, मस्तूरी विधायक डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी, बेलतरा विधायक रजनीश सिंह ने भी अपने-अपने क्षेत्र के लिये प्रस्ताव रखे और सुझाव भी दिये।बैठक में पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी गजेन्द्र सिंह ठाकुर, अशासकीय सदस्य प्रमोद नायक सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

Posted by #thebilasatimes.com

No comments:

Post a Comment

Adbox